Followers

Saturday, June 9, 2012

राधे मां और निर्मल बाबा को मेरा दशवंद....


      राधे मां इन दिनों ईश्वरीय शक्ति का ताजा तथाकथित अवतार हैं। हाथों में त्रिशूल और गुलाब का फूल लिए राधे मां उडनखटोले से भक्तों के बीच आती हैं, झमाझम मेकअप, डिज़ायनर लिबास और गहनों से लदी हुईं मां भक्तों के साथ नाचती हैं। जिस भक्तों की गोद में चढ़ जाएं या जिसे अपना जूठा खिला दें वो तर जाता है। दुआओं के कारोबार में करोड़ों का टर्नओवर है। भक्त मां कि छत्रछाया में हैं और मां खुद मुंबई के एक धनी व्यवसाई गुप्ता जी की छत्रछाया में। एक न्यूज़ चैनल बता रहा था कि सालों पहले मां अपने ढोंग पर फगवाड़ा के गुस्साए लोगों से माफी मांगकर भाग खड़ी हुई थी। अब जसविंदर उर्फ गुड़िया उर्फ राधे मां फिर अवतरित हुई हैं। अभी तो पता नहीं राधे मां के बारे में और क्या-क्या तथ्य प्रकाश में आएंगे।

ऐसे ही पिछले दिनों टच थैरेपी से कई देशों के राष्ट्रपतियों और प्रदानमंत्रियों का कल्याण का दावा करने वाले दक्षिण भारत के कथित बाबा के ए पॉल को अपने भाई की हत्या की सुपारी देने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने पुख्ता सबूतों के साथ उन्हे पकड़ा है। इधर मीडिया रिपोर्टस् आने के बाद निर्मल बाबा पर भी कानूनी शिकंजा कसता जा रहा है। इससे पहले भी कई बाबा और स्वामी कानून के लपेटे में आ चुके हैं। एक तरह से देखा जाए तो बाबा लोग इस देश की धार्मिक समस्या बनते जा रहे हैं। ऐसे बाबाओं की संख्या हज़ारों में है। राधे मां से पहले दो बाबाओं का डंका खूब पिटता रहा। निर्मल बाबा और दक्षिण भारत के पॉल दिनाकरण। निर्मल बाबा का बचाव करते हुए पिछले दिनों उमा भारती ने पॉल दिनाकरण का नाम लिया था।

लोगों की धर्मिक भावनाओं को अपने मन मुताबिक दिशा-निर्देशित करने के मामले में राधे मां, निर्मल बाबा या दक्षिण के पॉल दिनाकरण कोई अपवाद नहीं हैं। टीवी पर असंख्य देवी-देवता दर्शन देते हैं। इससे पहले भी लोग अपना बेड़ा पार लगाने के फेर में कई बाबा बदल चुके हैं। बाबा लोग भी धर्म से ज्यादा अपने कर्म और आध्यात्म से ज्यादा लोगों को सम्मोहित करने वाले तामझाम पर ज्यादा रिसर्च करके मैदान में कूद रहे हैं। राधे मां और निर्मल बाबा तो बस बाबागीरी के इस कॉरपोरेट हब की ताज़ा कड़ी हैं। आशीर्वाद और किरपा के इस बिज़नेस में ईश्वरीय शक्ति के ये ताजा तथाकथित अवतार महज़ एक प्रोडक्ट हैं और भक्त मूर्ख उपभोक्ता। कॉरपोरेटी किरपा की ये भगवान कंपनियां बिलकुल किसी एमएनसी की तरह अपना कामकाज करती हैं।  मामला दरअसल लोगों में व्याप्त आशंकाओं के फलस्परूप उत्पन्न हुई जिज्ञासा को भरपूर भुनाने का है। लोगों में निहित संभावनाओं और संवेदनाओं का दोहन इसकी प्रक्रिया है। और निर्विवाद रूप से टीवी चैनलों की विज्ञापन नीति का अनुचित लाभ इन बाबाओं और देवियों को भरपूर मिल रहा है। किसी भी टीवी चैनल पर अपना आधे घंटे का विज्ञापन देकर ये चैनल की विश्वसनियता और प्रमाणिकता को अपने नाम के साथ जोड़कर मोटी मलाई मार रहे है। इन बाबाओं-देवियों को टीवी पर अपने विज्ञापनों से तो लाभ होता ही है बल्कि बाद में अपने ढोंग की पोल-खोल और पर्दाफाश जैसे कार्यक्रमों से भी मुफ्त की पब्लिसिटी मिल जाती है। टीवी चैनलों को ये समझना चाहिए।

राधे मां और निर्मल बाबा ही क्या किसी का भी भव्य और जगमगता दरबार जब भी सजा हुआ देखता हूं तो बचपन में देखे गए मैजिक शो याद आ जाते हैं। जिसमें जादूगर अपना जादू दिखाने से पहले दावा करता था कि अब आप वही सुनेंगे जो मैं आपको सुनाउंगा और अब आप बस वही देखेंगे जो मैं आपको दिखाउंगा, और उसके बाद वो किसी बच्चे के मुंह से अंडा निकाल देता था, किसी लड़की का सिर धड़ से अलग कर देता था, कभी ऑडिटोरियम की छत गायब कर देता था और कभी ख़ुद को बक्से में बंद करके ना जाने कैसे लोगों के बीच से निकल आता था। जादूगर के पिटारे में और भी ना जाने कितने हैरतअंगेज़ तमाशे होते थे। इन बाबा और बाबियों को तथाकथित समागम करते देखता हूं तो लगता है जैसे उन्ही में से कोई जादूगर बाबा या देवी बन गया है। उल्लेखनीय है कि किराए के जाने-माने सैलेब्रटीज़ अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को भूलकर इनके शो हिट कराने के व्यवसाय में भक्तों की भूमिका निभा रहे हैं। इसके अलावा इन माओं, बाबाओं और स्वामियों का करोबार राजनैतिक संरक्षण में भी फलफूल रहा है। इस सघन कनेक्शन की भी पड़ताल होनी चाहिए।

      राधे मां या निर्मल बाबा और उन जैसे तमाम बाबाओं के पास सिर्फ थर्ड आई वगैराह ही नहीं है बल्कि करोड़ की संपत्ति, कई व्यवसायिक प्रतिष्ठान, होटल और भी ना जाने क्या-क्या हैं। अपना और अपनी तथाकथित शक्तियों का मंदिर बनवाने के लोलुप ये जादूगर जीते-जी ही अपने भक्तों में भगवान बन बैठते हैं। इन बाबाओं के भक्तों को फिर किसी सामाजिक मंच अथवा किसी न्यूज़ चैनल्स पर बड़े-बड़े धर्मशास्त्रियों, तर्कशास्त्रियों, समाजशास्त्रियों और मनोचिकित्सकों से साथ अपने अधपके ज्ञान के हवाले से कुतर्क करते देखा जा सकता है। इन भक्तों को देख और सुन कर ऐसा लगता है कि परेशानियों, मुसीबतों और संघर्षों के मारे लोगों की हिम्मत तो पहले ही जवाब दे चुकी थी, अब उनके स्वविवेक और आत्ममंथन पर भी एक बाबा का आसन पड़ चुका है।

      यहां आतंक और आध्यात्म में बड़ा ही झीना सा अंतर नज़र आ रहा है मुझे। सही भी है, अपनी सामर्थ्य और समझ को हाशिए पर रखकर बाबा के बताए ऊल-जलूल उपाए करने वाले भक्त अगर टीवी कैमरों के सामने ही बाबा का आधारहीन पक्ष रखने की ज़िद में मार-काट की सीमा तक उग्र हो रहे हैं तो बाबा के एक इशारे पर वो हिंसा पर उतारू नहीं हो सकते इसकी भी कोई गारंटी नहीं है।

      ऐसे देवियो और बाबाओं के व्यापार को समझना होगा। ये सेलेब्रिटी होकर जीने का जमाना है। ग्लैमर सिर्फ बाबा बनने में ही नहीं है अपितु भक्त बनने में भी है। एक अरसा पहले पत्थर की मूर्तियों को दूध पिला कर भी हम जीवन के झंझावातों की वैतरणी पार करने का असफल प्रयास कर चुके हैं। ये बाबाओं का दौर चल रहा है। किसी बाबा या देवी के भव्य पंडालों में जाकर मादक इत्र और मदहोश कर देने वाली खुशबू से शराबोर अगरबत्ती और धूपबत्ती का स्मोक हमें लुभाने लगा है। हमें लगने लगा है की घर की चिकचिक और संकीर्ण माहौल से निजात पाकर हम दिव्यलोक में आ गए है। ऐसे सत्संग और समागमों में आना उमंग और वहां से लौटकर आना आनंद की परिभाषा बन गया है। ये धार्मिक उन्माद है, जो हमसे अनदेखे ईश्वर और शक्तियों का स्केच तैयार करवा रहा है। अपनी आंखे मूंद चुके मद्धम संगीत लहरियों पर झूमते लोगों के हाथों में राधे मां और निर्मल बाबा जैसे लोग कूची और रंग थमा रहे हैं। नतीजा ये कि ईश्वर को भी लोग अपने मन-मस्तिष्क की आंखों से नहीं बल्कि बाबाओं की थर्ड आई से देख रहे हैं। आत्मा की चिट्ठी परमात्मा तक पहुंचाने के लिए बाबा लोग ख़ुद को डाकिया प्रोजेक्ट कर रहे हैं, भगवान और भक्त के बीच कंनेक्शन की गांरटी पर कमीशन का खेल खेलने वाले ये देवी और बाबा लोग दलालों से ज़्यादा कुछ भी नहीं हैं। वरना अपने अंदर ईश्वरीय शक्तियों का दावा करने वाले इन लेगों ने कभी अपने भक्तों को ये क्यों नहीं बताया की ईश्वर तो उनके अर्थात भक्तों अंदर भी है।

      यहां ग़लती पूरी तरह से राधे मां या निर्मल बाबा और उन जैसे तमाम बाबाओं की भी नहीं है। दरअसल ऐसे देवी और बाबा लोग तो भौतिकशास्त्र, रसायनशास्त्र, अर्थशास्त्र और समाजशास्त्र का दुर्लभ घालमेल हैं। निर्मल बाबा तो मात्र एक प्रोडेक्ट हैं। महाठग नटवरलाल ने सालों पहले एक अख़बार को दिए अपने आख़िरी इंटरव्यू में कहा था कि इस देश में मूर्ख बनने वालों की नहीं, मूर्ख बनाने वालों की कमी है। राधे मां और निर्मल बाबा जैसे लोग तो नटवरलाल के उस रिक्तिस्थान को भर मात्र रहे हैं। दरअसल लोगों के मतिभ्रम, मनोविकार और असमंजस की व्याकुलता को भुनाना भी एक कला है। राधे मां, निर्मल बाबा और उन जैसे तमाम बाबा दरअसल धर्म की नहीं, कॉरपोरेट जगत की पैदाइश हैं। वरना सोचने वाली बात है कि अपने आप को निमित्त मात्र बताने वाले इन लोगों के पास ये महल जैसे पंडाल, लक्ज़री कारें, कई-कई बीघों में आश्रम, झाड़-फ़ानूस, भवन, गुफाएं, सिंहासन और सेविकाएं, कहां से आ जाती हैं। इतने भोग-विलास और सुविधा संपन्नता में तो कभी ख़ुद भगवान भी नहीं रहे होंगे। ऐसे कई उदाहरण हैं। अभी तो देखते जाइए, ना जाने कितने बाबा और मांएं लॉच होने वाले हैं।

      ईश्वर को आकार और निराकार दोनों रूपों में मानने वालों की एक अच्छी खासी तादाद इन बाबाओं में भगवान के साक्षात दर्शन कर रही है। और इन नयनाभिराम दर्शनों ने आंखों को इतनी चकाचौंध से भर दिया है कि लोग अपने दिमाग में हो रहे कैमिकल लोचे को भक्ति का नाम दे रहे हैं। समझने वाली बात ये है कि हमारे धर्म ग्रंथों में शायद ही ऐसे किसी भगवान का उल्लेख हो जिसने कष्ट ना झेले हों, ईसा मसीह से लेकर भगवान कृष्ण तक हर धर्म में भगवान को मिले कष्टों का वर्णन मिलता है। जीवन-मृत्यु, रात-दिन की ही तरह सुख-दुख भी आने-जाने हैं। भगवान भी अपने ऊपर आए कष्टों को टाल नहीं सके थे। फिर भगवान के ये ठेकेदार ना जाने कहां से कष्टों से मुक्ति की संजीवनी बांटने का दावा करते हैं। सच तो ये है कि, ना भगवान के कष्ट-कंटक दूर हुए और ना भगवान के भक्तों के होंगे, हां, आत्मा-परमात्मा के खेल में अपना दांव चलकर इन देवियों, बाबाओं और स्वामियों के कष्ट ज़रूर छू-मंतर हो चुके हैं। वो आजकल कतई भोग-विलासी और टनाटन हैं।

      इन नकली देविओं और बाबाओं से बहुत नुकसान हो रहा है। लोगों में निर्णय लेने की क्षमता ख़त्म हो चुकी है क्योंकि अब भक्तों के छोटे-छोटे निर्णय भी ये बाबा लोग लेते हैं। ऐसे में लोगों में असमंजस और भ्रम की स्थिति पनप रही है। कभी लोग बाबा रामदेव के कहने से कोल्ड ड्रिंक से टॉयलेट साफ़ कर रहे हैं तो कभी निर्मल बाबा के कहने से वही कोल्ड ड्रिंक इस उम्मीद के साथ फ़्रिज में सहेज रहे हैं कि उससे किरपा आएगी। हो ये भी रहा है कि लोग अपनी मेहनत से मिली सफलता का श्रेय भी इन बाबाओं को देकर इनकी जय-जयकार कर रहे हैं और दूसरा सबसे बड़ा नुकसान ये कि ऐसे बहरूपियों की भीड़ में असली धर्मरक्षक और धर्म प्रचारक अपनी पहचान के संकट से जूझ रहे हैं। सनातन धर्म की पुर्नस्थापना करने वाले शंकराचार्य की वर्तमान पीढ़ी को भी लोग संशय की दृष्टि से देख रहे हैं तो इसका दोष और पाप इन्ही बहरूपियों के सिर मढ़ा जाना चाहिए। इन बाबाओं का इलाज कैसे होगा? क्या अपना बेड़ा पार लगाने के लिए इनकी अंधभक्ति करने वाले लोग कभी जागरुक हो पाएंगे? या टीवी चैनलों को पहल करते हुए विज्ञापन के लिए निर्धारित राशि लेकर इन्हे टीवी वाले बाबा का तमगा देने का अवसर देने की नीति में बदलाव करने की ज़रूरत है? जो भी हो, अब वो प्राथमिकता के आधार पर होना चाहिए। वरना राधे मां और निर्मल बाबा जैसों को मान्यता देना ठीक वैसा ही है जैसे बीमारियों के इलाज के लिए घरेलू नुस्खे बताने वाली दादी को डॉक्टरी की डिग्री थमा दी जाए।
(आज 10-06-2012 को दैनिक जागरण राष्ट्रीय संस्करण में प्रकाशित)

6 comments:

निर्मला कपिला said...

हम तो ऐसे ही की बोर्ड पर ठक ठक करते हैं क्यों न बाबा या माता श्री बन कर नोट कमाये जायें। सच मे इन बाबाओं ने धर्म के नाम पर लूट मचा रखी हैं मै तो कहती हूँ विदेश से काला धन तो जब आये आये पहले सभी बाबाओं का काला धन जब्त होना चाहिये।

www.avinashallahabad.blogspot.com said...

कल समोसा मिठी चटनी से इस आशय में खाया कि एक बार निर्मल बाबा का भी नुस्खा अपना कर देखू....खैर कोई उचित लाभंश तो नही हुआ पर बाबा पर से विश्वास जरूर उठा...भला हो ऐसे बाबाओ का जो खुद के साथ समोसा वाले के भी ख्याल रखते है..

www.avinashallahabad.blogspot.com said...

कल समोसा मिठी चटनी से इस आशय में खाया कि एक बार निर्मल बाबा का भी नुस्खा अपना कर देखू....खैर कोई उचित लाभंश तो नही हुआ पर बाबा पर से विश्वास जरूर उठा...भला हो ऐसे बाबाओ का जो खुद के साथ समोसा वाले के भी ख्याल रखते है..

हरि जोशी said...

गजब! अनुराग अकबराबादी ने एक पत्‍थर तो उछाला.....

अपनी समस्‍याओं से घिरी जनता को जब उबरने का कोई रास्‍ता नजर नहीं आता तो धर्म/भगवान/आस्‍था उसे एसे बाबाओं के पास ले जाती है। समय के साथ अब बाबा भी कॉरपोरेट हो गए हैं लेकिन चिंता की बात यह है कि अब यह बाबा राजनीति में दाव आजमा रहे हैं। विदेश में पड़े काले धन पर चिल्‍लाने वाले अनपढ़ बाबा अर्थशास्‍त्र समझा रहे हैं और केसरिया या गेरुए वस्‍त्रों को सम्‍मान देने की आदी रही जनता ही नहीं बल्कि तथाकथित चौथा स्‍तंभ भी इनके सहारे अपना अर्थशास्‍त्र ठीक करने में पिल गया है। योग बेचते-बेचते बाबा अब दवाओं के बड़े कारोबारी हो गए हैं। क्रीम पाउडर तक बेच रहे हैं, जबकि कल तक इनका जुमला था कि अगर फेयर क्रीम लगाने से भैंस कभी गोरी हुई है क्‍या! विदेश में पड़े काले धन की चीत्‍कार करने वाले खुद कर चोरी में पकड़े जाते हैं लेकिन मीडिया को भी बाबाओं के चमत्‍कार या बकवास तो दिखाई देती, तथ्‍य नहीं।
चंद्रा स्‍वामी और धीरेन्‍द्र ब्रह्मचारी से लेकर थर्ड आई वाले बाबा-बाबियों की लंबी श्रृंखला है लेकिन जब ठगी के भ्रमजाल में फसने वाले मूर्खों की कमी नहीं है और महिमामंडित करने वालों पर लक्ष्‍मी की विशेष कृपा का मायाजाल रहता है तो हो क्‍या सकता है......लेकिन एक पत्‍थर तो तबियत से उछालो यारो.........आपने पत्‍थर उछाला, तबियत से उछाला..इसके लिए साधुवाद।

देवेश वशिष्ठ said...

मुस्कान भाईसा, इग्नू से एक पत्राचार पाठ्यक्रम शुरू कर देना चाहिए। डिप्लोमा इन बाबागीरी।

Mansoor Ali said...

'बाबा' किसी के हाथ में आते नहीं मगर,
हाथों के अपनी पहुँच में उनके 'चरण' तो है.

'बाबी' भी अब तो मिल गयी है, 'राधे' नाम की,
'बाबाओं' से निराश ! तो कोई शरण तो है.
http://aatm-manthan.com